पीलिया(jaundice) का घरेलू उपचार

0
पीलिया(jaundice) का घरेलू उपचार
English
peeliya ek aisee beemaaree hai jo kisee bhee vyakti ko ho sakatee hai . yah beemaaree manushy ke lie kabhee – kabhee jaanaleva bhee ho jaatee hai . is beemaaree mein manushy ka khoon peela padane lagata hai aur shareer kamajor ho jaata hai . is beemaaree ka mukhy kaaran paachan shakti ka sahee dhang se kaam na karana , paachan shakti kharaab hone ke kaaran khoon banana band ho jaata hai aur unake shareer ka rang dheere – dheere peela padane lagata hai . is beemaaree ko ghar mein rakhee vastuon se jad se khatm kiya ja sakata hai .
naariyal
din mein kam se kam 2 hare naariyal ka paanee pilaayen, naariyal turant khol kar turant hee paanee pilaana hai, isako jyaada der tak rakhana nahin hai. ek din ke baad hee peshaab ka kalar badalana shuroo ho jaayega. aisa nirantar 4-5 din karane ke baad aap bilakul svasth anubhav karenge. aise mein rogee ko jo bhee inglish dava dee ja rahee ho usako ek baar band kar dee jae.. aur agar rogee ki haalat bahut seeriyas ho to usako isake saath mein glookos diya ja sakata hai. aur baakee poora din sirph naariyal paanee par hee rakhen. ye prayog anek logon par poorn roop se saphal raha hai

.pyaaz :
ek pyaaz ko chheelakar isake patale – patale hisse karake isamen neemboo ka ras nichode isamen peesee huee thodee see kaalee mirch aur kaala namak daalakar pratidin subah – shaam isaka sevan karane se peeliya kee beemaaree 15 se 20 din mein khatm ho jaatee hai .

chana :
raatri ko sone se pahale chane kee daal ko bhigokar rakh de . praatakaal uthakar bheegee huee daal ka paanee nikaalakar usame thoda sa gud daalakar milaaye . aur isako 1 se 2 saptaah tak khaen isase peeliya kee beemaaree theek ho jaatee hai .

Hindi
पीलिया एक ऐसी बीमारी है जो किसी भी व्यक्ति को हो सकती है । यह बीमारी मनुष्य के लिए कभी – कभी जानलेवा भी हो जाती है । इस बीमारी में मनुष्य का खून पीला पड़ने लगता है और शरीर कमजोर हो जाता है । इस बीमारी का मुख्य कारण पाचन शक्ति का सही ढंग से काम न करना , पाचन शक्ति ख़राब होने के कारण खून बनना बंद हो जाता है और उनके शरीर का रंग धीरे – धीरे पीला पड़ने लगता है । इस बीमारी को घर में रखी वस्तुओं से जड़ से ख़त्म किया जा सकता है ।

नारियल :
दिन में कम से कम 2 हरे नारियल का पानी पिलायें, नारियल तुरंत खोल कर तुरंत ही पानी पिलाना है, इसको ज्यादा देर तक रखना नहीं है. एक दिन के बाद ही पेशाब का कलर बदलना शुरू हो जायेगा. ऐसा निरंतर ४-५ दिन करने के बाद आप बिलकुल स्वस्थ अनुभव करेंगे. ऐसे में रोगी को जो भी इंग्लिश दवा दी जा रही हो उसको एक बार बंद कर दी जाए.. और अगर रोगी कि हालत बहुत सीरियस हो तो उसको इसके साथ में ग्लूकोस दिया जा सकता है. और बाकी पूरा दिन सिर्फ नारियल पानी पर ही रखें. ये प्रयोग अनेक लोगों पर पूर्ण रूप से सफल रहा है|

प्याज़ :
एक प्याज़ को छीलकर इसके पतले – पतले हिस्से करके इसमें नींबू का रस निचोड़े इसमें पीसी हुई थोड़ी सी काली मिर्च और काला नमक डालकर प्रतिदिन सुबह – शाम इसका सेवन करने से पीलिया की बीमारी १५ से २० दिन में ख़त्म हो जाती है ।

चना :
रात्रि को सोने से पहले चने की दाल को भिगोकर रख दे । प्रातकाल उठकर भीगी हुई दाल का पानी निकालकर उसमे थोड़ा सा गुड डालकर मिलाये । और इसको 1 से 2 सप्ताह तक खाएं इससे पीलिया की बीमारी ठीक हो जाती है ।

Share.

About Author

Leave A Reply

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.